शनिवार, 29 जून 2013

किसी भी प्रकार की सूजन में उपयोगी - निर्गुण्डी.



          किसी भी प्रकार की भीतरी और बाहरी सूजन को दूर करने, दर्द और गैस को दूर करने के लिए उपयोगी  निर्गुण्डी जिसे कहीं-कहीं नेगड के नाम से भी जाना जाता है, की जितनी भी तारीफ की जाए वह कम है । 

          इसका पौधा सारे भारत मे, विशेषकर गर्म प्रदेशों में पाया जाता है । इसके पौधे से  तीव्र और अरूचिकर गंध आती है । अधिक पहचान के लिये इसके पत्तों को तीन-तीन के छोटे-छोटे समूहों में देखकर भी आसानी से पहचाना जा सकता है । इसका सबसे ज्यादा उपयोग सूजन दूर करने में किया जाता है । हर प्रकार की सूजन दूर करने के लिए प्रयोग विधि इस प्रकार है ।

          प्रयोग- इसके पत्तों को पानी में उबालें । पर्याप्त गर्म होने के बाद जब अच्छी भाप उठने लगे तब बरतन पर जाली रख दें । दो छोटे कपड़े पानी में भिगोकर निचोड़ ले । तह करके एक के बाद एक जाली पर रख कर गर्म करें । सूजन या दर्द के स्थान पर रख कर सेंक करें । 

          चोंट-मोंच का दर्द, जोड़ों का दर्द, कमर दर्द और वात प्रकोप के कारण होने वाला दर्द दूर करने के लिए भी यही उपाय बहुत गुणकारी है।

          कफ, बुखार व फेफड़ों में सूजन को दूर करने के लिए इसके पत्तों का रस निकालकर 2 बड़े चम्मच मात्रा में, 2 ग्राम पिसी पिप्पली मिलाकर दिन में दो बार सुबह शाम पीने व पत्तों को गर्म कर पीठ पर या छाती पर बांधने से शीघ्र आराम होता है।
 

2 टिप्‍पणियां:

आपकी अमल्य प्रतिक्रियाओं के लिये धन्यवाद...

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...